धृतराष्ट्र ने पूछा– ‘‘हे संजय! धर्मक्षेत्र, कुरुक्षेत्र में एकत्र युद्ध की इच्छावाले मेरे और पाण्डु के पुत्रों ने क्या किया?’’

चित्र
धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे समवेता युयुत्सव:। 
मामका: पाण्डवाश्चैव किमकुर्वत सञ्जय।।१।।
धृतराष्ट्र ने पूछा– ‘‘हे संजय! धर्मक्षेत्र, कुरुक्षेत्र में एकत्र युद्ध की इच्छावाले मेरे और पाण्डु के पुत्रों ने क्या किया?’’

अज्ञानरूपी धृतराष्ट्र और संयमरूपी संजय। अज्ञान मन के अन्तराल में रहता है। अज्ञान से आवृत्त मन धृतराष्ट्र जन्मान्ध है; किन्तु संयमरूपी संजय के माध्यम से वह देखता है, सुनता है और समझता है कि परमात्मा ही सत्य है, फिर भी जब तक इससे उत्पन्न मोहरूपी दुर्योधन जीवित है इसकी दृष्टि सदैव कौरवों पर रहती है, विकारों पर ही रहती है। 

शरीर एक क्षेत्र है। जब हृदय-देश में दैवी सम्पत्ति का बाहुल्य होता है तो यह शरीर धर्मक्षेत्र बन जाता है और जब इसमें आसुरी सम्पत्ति का बाहुल्य होता है तो यह शरीर कुरुक्षेत्र बन जाता है। ‘कुरु’ अर्थात् करो– यह शब्द आदेशात्मक है।


तीनों गुण मनुष्य को देवता से कीटपर्यन्त शरीरों में ही बाँधते हैं। जब तक प्रकृति और प्रकृति से उत्पन्न गुण जीवित हैं, तब तक ‘कुरु’ लगा रहेगा। अत: जन्म-मृत्युवाला क्षेत्र, विकारोंवाला क्षेत्र कुरुक्षेत्र है और परमधर्म परमात्मा में प्रवेश …

About us

 



Hindi India Queen

TOGGLE NAVIGATION

About Us

हे दोस्तो आप सब का इस ब्लॉग hindi-iq.com पर आने के लिए धन्यवाद। मेरा नाम सर्वेश उपाध्याय है। में इस साइट का Owner एंड Author हूँ, पेशे से में एक फाइनेंसियल सलाहकार हूँ और चीज़ों को सरल भाषा में समझना मुझे अच्छा लगता है इसी उम्मीद के साथ हिंदी कंटेंट देने का कोशिश करूंगा But Internet पर ज्यादा तर Articles इतनी कठिन भाषा में होते है की शब्दों का अर्थ समझने के लिए Dictionary का सहारा लेना पड़ता है ।

इस चीज़ को बदलने के लिए मैंने इस ब्लॉग का निर्माण किया । इसके कंटेंट ज्यादा तर Investment ideas, Banking & financial services, को आसान भाषा में समझाने के होंगे , Make Money, Online , राम कथा ,से रिलेटेड इंटरेस्टिंग Articles होंगे और Comparison से रिलेटेड आर्टिकल्स होंगे। आखरी वाला सेक्शन इसलिए बहुत जरुरी है क्यूंकि आज के टाइम में सारी इनफार्मेशन Digital होने के कारण गलत Information आग की तरह फैलती है।

तो सही और गलत की पहचान करना बहुत जरुरी है इसलिए आपका मेरे ब्लॉग के साथ बने रहना बहुत जरुरी हो जाता है और में आपसे ये उम्मीद भी करता हूँ की आपका साथ मुझे मिलता रहेगा। आप सब के सपोर्ट से हम एक बेहतर इंटरनेट Content हमारी मात्र भाषा हिंदी में बनायेगें।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कहानी राम कथा - SAR नारद मुनि, सनत्कुमार संवाद, राम कथा - कलियुग की स्थिति

कहानी राम कथा- नारद मुनि, सनत्कुमार संवाद,

Google ने भारत में लॉन्च किया Kormo जॉब पाएं